Prahlad Singh Tipaniya Biography -BloggerRv

नमस्कार दोस्तों हाय हम पढ़ेंगे पद्मश्री Prahlad Singh Tipaniya Biography प्रहलाद सिंह टिपानिया मालवा क्षेत्र के प्रसिद्ध भजन गायक कार  हैं| प्रहलाद सिंह टिपानिया कबीर भक्ति उनके बारे में आज हम पूरे विस्तार से जानेंगे और देखेंगे उन्होंने अपनी भक्ति सागर जीवन कैसे शुरू किया किस-किस पढ़ाओ से वो गुजरे और जीवन में उन्होंने कितना बड़ा पद प्राप्त किया|

 

 प्रहलाद सिंह टिपानिया को भारत सरकार द्वारा बहुत सारे पुरस्कार दिए गए हैं जिसमें से पद्मश्री पुरस्कार से भी उनको नवाजा गया है| तो चलो बढ़ते हैं आगे और जानते हैं उनके जीवन के बारे में |

 

Prahlad Singh Tipaniya Jeevni -BloggerRv

 

 पद्मश्री प्रहलाद सिंह टिपानिया-

                                             पहला सिंह टिपानिया का जन्म बलाई समाज में 7 सितंबर 1954 को लुनिया खेड़ी में हुआ था| लुनिया खेड़ी मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में आता है| उनके पिता का नाम श्री आत्माराम जी टिपानिया और उनकी माता का नाम श्रीमती संपत भाई टिप्पणी है|  वाह एक गरीब किसान के परिवार से बिलॉन्ग करते हैं|

 

 उनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी इस वजह से मैं इंदौर के मानपुर मैं उनके नाना के पास भेज दिया जहां उनकी पढ़ाई लिखाई हुई| और यह है उनका बचपन गुजरा| वह जैसे जैसे बड़े हुए वैसे वैसे उन्होंने अपनी शिक्षा आगे बढ़ाई |

 

 11th 12th में उन्होंने बायोलॉजी सब्जेक्ट { जीव विज्ञान } चुना उनकी दिली इच्छा थी कि वह जीवन में एक बड़ा डॉक्टर बने इसलिए उन्होंने अपने हाईस्कूल में जीव विज्ञान सब्जेक्ट लिया| फिर 12th करने के बाद उन्होंने कॉलेज में  इतिहास से m.a. किया|

 

 और इतिहास मैं गांव के स्कूल में शिक्षक बने| अब तक उन्होंने सिर्फ कबीर को 10 नंबर के लिए पड़ा ताकि परीक्षा में कबीर का दोहा 10 नंबर के लिए आता है| पर जब वह शिक्षक बन गए तब उन्हें पास के गांव में कबीर भजन सुनने के लिए आमंत्रित किया|

 

 वह  विशेष अतिथि थे |तब उन्हें भजन सुन कर बहुत आनंद प्राप्त हुआ और उन्होंने सोचा इस तंबूरे को मैं भी चलाना सीख लूंगा और भजन गाना सीख लूंगा| तब वहां गायक कार ने उन्हें बोला कि आपको भजन सीखने के लिए यहीं पर आना होगा ताकि आप तंबूरो को चलाकर साथ में गाय तो और अच्छे से सीखेंगे|

 

फिर उन्होंने शिक्षक के साथ-साथ भजन गाना भी सीख लिया संत कबीर के भजन में ऐसा मन लगा तो कबीर के बारे में स्कूल में अपने बच्चों को भी  सिखाने लग गए| उसके बाद कबीर के भजन में ऐसे लुप्त हुए कि भारत के बहुत सारे इलाके गांव कस्बे शहर में भजन गाए|

 

तब तक उनको भारत में हर एक गांव में जानने लग गए फिर दूरदर्शन और रेडियो में भी उनके  भजन आने लगे |

 कबीर के साथ यह सफर देश के साथ साथ विदेशों में भी पहुंचा |

 

 उन्हें अमेरिका में एक विशेष कबीर भजन गायक कार के रूप में इनवाइट किया| तब वहां अमेरिका गए और वहां भी उन्होंने अपने वजन से सबका मन मोह लिया|  प्रहलाद सिंह टिपानिया और अमेरिका की  कबीर शोधक डॉक्टर    लिबियादेश देश और संस्कृति को सहेज कर एक अनोखा दोस्ती की परिभाषा कर जाते हैं|

Free hotstar premium

 

 तब उन्हें भारत सरकार द्वारा पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा गया| तब तक उन्हें देश विदेशों में भी जानने लगे| आज की तारीख में वह अध्यापक के साथ-साथ सैकड़ों बच्चों का परिचय कबीर से करवा रहे हैं| प्रहलाद सिंह टिपानिया समिति द्वारा एक छोटा सा स्कूल भी खोला जो पूरी तरह से निशुल्क है|

 

 इसके साथ ही कबीर प्रोजेक्ट भी चलाया गया जो आज मालवा में और देश विदेश में बहुत प्रसिद्ध है वहां देश विदेशों से प्रहलाद सिंह टिपानिया के भजन सुनने आते हैं और भजन का आनंद लेते हैं|

Free Canva pro account

 आज की तारीख में प्रहलाद सिंह टिपानिया अपने भजन का जोड़ यूट्यूब द्वारा भी कर रहे हैं|

 उनका यूट्यूब चैनल प्रहलाद सिंह टिपानिया ऑफिशियल है| ताकि वह चाहते हैं कि जो मेरे भजन और कबीर को नहीं जान पाए वह यूट्यूब के द्वारा कबीर को जान ले इसलिए उन्होंने अपना समय यूट्यूब पर देने का भी फैसला किया|

 

 और आज यूट्यूब पर भजन अपलोड करते हैं और उनके जीवन के बारे में वहां बता दें| आप उनके यूट्यूब चैनल को भी देख सकते हैं और वहां भजन सुन सकते हैं|

 

Prahlad Singh Tipaniya Ji Ke Bhajan-

 

प्रहलाद सिंह टिपानिया के भजन आप हमारे युटुब चैनल BloggerRv  पर देख सकते हैं और उनकी बायोग्राफी भी आप यूट्यूब चैनल में वीडियो में देख सकते हैं|  चैनल को सब्सक्राइब करना ना भूले और वीडियो को जरुर लाइक करें|

 

CONCLUSION-

 

तो यह था प्रहलाद सिंह टिपानिया के पूरे जीवन का बायोग्राफी उनके जीवन में वैसे तो बहुत सारे पड़ा हुआ है वह आप उनकी यूट्यूब चैनल पर देख सकते हैं और उनके बारे में अधिक जान सकते हैं उनके भजन सुनकर आपका भी मन मुंह जाएगा | पहला सिंह टिपानिया इतने प्रसिद्ध हो चुके हैं फिर भी अपनी संस्कृति को नहीं छोड़ते हैं| वह आज भी ऐसे ही किसान की तरह रहते हैं| तो आपको कैसा लगा आज का जीवनी कमेंट करके जरूर बताएं और अगर आप किसी अन्य महान व्यक्ति की जीवनी चाहते हैं तो कमेंट करके बता दे मैं  उनकी जीवनी भी ला दूंगा तब तक के लिए मिलते हैं अगले आर्टिकल में|  पर हां  आप ईमेल को जरूर फॉलो करें ताकि आपको जैसे ही नोटिफिकेशन आए आप आर्टिकल उसी टाइम पढ़ ले| हमार को यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब कर ले और वहां भी आप प्रहलाद सिंह टिपानिया के जीवनी को देख सकते हैं| 

Leave a Comment